इनफार्मेशन

3 Mukhi Rudraksha Benefits in hindi | तीन मुखी रुद्राक्ष का महत्व, तीन मुखी रुद्राक्ष धारण करने  के लाभ, effective

Pawin

3 Mukhi Rudraksha Benefits in hindi
sara Tendulkar biography hindi

Rate this post

3 Mukhi Rudraksha Benefits in hindi, तीन मुखी रुद्राक्ष का महत्व, तीन मुखी रुद्राक्ष  धारण करने  के लाभ , 3 Mukhi Rudraksha in Hindi, 4 mukhi rudraksha benefits in hindi, effective , 5 mukhi rudraksha benefits in hindi,2 mukhi rudraksha benefits in hindi, 3 मुखी रुद्राक्ष की पहचान,3 मुखी रुद्राक्ष का मंत्र, तीन मुखी रुद्राक्ष के फायदे और नुकसान
6 mukhi rudraksha benefits in hindi, तीन मुखी रुद्राक्ष पहनने की विधि.

तीन मुखी रुद्राक्ष (3 Mukhi Rudraksha in Hindi )

प्रतिक रुद्राक्ष में मनुष्य के जीवन के कुछ ना कुछ  पहलुओं को लाभ पहुंचाने का अच्छी गुण होता है. चाहे वह कैरियर,  परिवार,  प्रेम या स्वस्थ से जुड़ी पहलू क्यों ना हो. तीन मुखी रुद्राक्ष की सतह पर मुख्य तीन प्राकृतिक रेखाएं होती है जो तीन मुखी रुद्राक्ष असली होने का पहचान होती है. इस तरह का रुद्राक्ष नेपाल और इंडोनेशिया में ज्यादातर पाया जाता है. तीन मुखी रुद्राक्ष का सबसे बड़ी लाभ मुख्य रूप से मनुष्य की स्वास्थ्य को बेहतर बनाने का काम करता है.

तीन मुखी रुद्राक्ष को अग्नि देव का स्वरूप भी माना जाता है. अग्निदेव एक बहुत ही कठोर वैदिक देवता है जो  बहुत ही उग्र और शक्तिशाली होती है. तीन मुखी रुद्राक्ष का अधिपति मंगल ग्रह होने के कारण  तीन मुखी रुद्राक्ष मंगल और सूर्य ग्रह से संबंधित दोषों को दूर करने के लिए धारण किया जाता है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिसके पास 3 मुखी  रुद्राक्ष धारण करता है उस व्यक्ति के आसपास नकारात्मक होने वाली नकारात्मक ऊर्जा को जला देता है.  साथ ही उस व्यक्ति का बुरे कर्म को नष्ट कर देता है. जिसके कारण वह व्यक्ति अपराध मुक्त और तनाव मुक्त रहता है. शास्त्रों के अनुसार तीन मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से नारी हत्या के पाप से भी मुक्ति मिल सकती है.

तीन मुखी रुद्राक्ष का महत्व

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हम लोग अपने पूर्व जन्म से जुड़े रहते हैं जो हमारे वर्तमान और भविष्य के जीवन की एक नियम होती है.  कुछ अपने पूर्व जन्म के कर्मों के कारण इस जन्म में भी पीड़ित रहते हैं. विशेषकर तीन मुखी रुद्राक्ष का संबंध ब्रह्मा विष्णु महेश्वर के अलावा इस धरती आकाश और पाताल से भी जोड़ा जाता है. जो व्यक्ति 3 मुखी रुद्राक्ष को धारण करता है उस व्यक्ति का स्वास्थ्य धन और ज्ञान  में बढ़ोतरी होती है.  उस व्यक्ति को किसी तरह का बीमारी या शत्रुओं का नाश भी हो जाता है. 

शास्त्रों के अनुसार तीन मुखी रुद्राक्ष की धारण करने से ही कुछ समय बाद ही आपको इस रुद्राक्ष का प्रभाव दिखाई देने लगता है.

तीन मुखी रुद्राक्ष  धारण करने  के लाभ  (3 Mukhi Rudraksha Benefits in hindi)

  1. तीन मुखी रुद्राक्ष  धारण करने वाले व्यक्ति का मानसिक और शारीरिक रूप से शांति प्राप्ति होती है.
  2. 3 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से व्यक्ति को तनाव मुक्ति और सफलता पाने में मदद करता है.
  3. 3 मुखी रुद्राक्ष धारण करने वाले व्यक्ति कि वह सारी नकारात्मक यादों  मिटाने में मदद करती है.
  4. 3 मुखी रुद्राक्ष धारण करने पेट की  सभी प्रकार की समस्याओं को ठीक करने में मदद मिलती है.
  5.  तीन मुखी रुद्राक्ष प्लेग चेचक पीलिया जैसी बीमारियों  निजात पाने में भी मदद करता है.
  6.  3 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से बीते हुए और  वर्तमान में किए हुए सारे पापों को दूर करने में मदद करता.
  7.  तीन मुखी रुद्राक्ष रक्तचाप मधुमेह और रक्त संबंधी संक्रमण जैसी बीमारियों को नियंत्रण करने में भी मदद करता है.
  8. तीन मुखी रुद्राक्ष धारण करने से महिलाओं की मासिक धर्म में होने वाली समस्याओं को ठीक करने में भी मदद मिलता है.
  9. 3 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से लोगों को आलस्य पन त्यागने और अधिक सक्रिय और सतर्कता बनाने में भी मदद करता है.
  10.  3 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से मंगल ग्रह के दुष्प्रभाव से होने वाली परेशानियों से निजात दिलाता है.
  11.  3 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से भूमि विवाद दुर्घटना और भैया जैसी समस्याओं से भी छुटकारा मिलने में मदद करता है.

 तीन मुखी रुद्राक्ष धारण करने की विधि

रुद्राक्ष को एक शक्तिशाली मोती के रूप में माना जाता है इसीलिए जब भी आप इस रुद्राक्ष को धारण करेंगे उससे पहले  जानकार ज्योतिष से सलाह जरूर लें.  वह ज्योतिष आपकी  जन्म कुंडली  की अध्ययन करने के बाद ही  तीन मुखी रुद्राक्ष पहने या ना पाने इसके बारे में सलाह देंगे. यदि ज्योतिष कहेंगे कि आपको रुद्राक्ष धारण करनी चाहिए और उदाहरण करनी चाहिए तो कौन मुखी का धारण करनी चाहिए सारा चीज आपको ज्योतिष बताएंगे उसके बाद ही आप को धारण करना चाहिए.

  •  तीन मुखी रुद्राक्ष धारण करने के लिए सबसे उत्तम दिन सोमवार  या गुरुवार को माना जाता है.  तीन मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से पहले इसे सबसे पहले मंत्र से शुद्धि जरूर कर ले. 
  •  3 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से पहले सबसे पहले आपको सुबह स्नान करने के बाद रुद्राक्ष को गंगाजल या कच्चे दूध में रख ले.
  •  इसके बाद  बजरंगबली जी की प्रतिमा पर लाल पुष्प चढ़ा है और  बजरंगबली जी का पूजा धना करें. 
  • 3 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से पहले आपको रुद्राक्ष का मंत्र ओम क्ली नमः का 108 बार जाप कर ले. उसके बाद ही धारण करें.

यह भी पढ़ें

 निष्कर्ष

 इसलिए हमने जाना तीन मुखी रुद्राक्ष की महत्व लाभ और धारण करने का विधि आशा करता हूं आप लोग  को लेकर जरूर पसंद आई हो धन्यवाद.  किसी तरह का कोई सुझाव या सलाह हेतु नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट जरुर करें.

FAQs.

Q. 3 मुखी रुद्राक्ष कब धारण करना चाहिए?

A. तीन मुखी रुद्राक्ष धारण करने के लिए सबसे उत्तम दिन सोमवार  या गुरुवार को माना जाता है.  तीन मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से पहले इसे सबसे पहले मंत्र से शुद्धि जरूर कर ले. 

Q. क्या 3 मुखी रुद्राक्ष घर में रख सकते हैं?

A. तीन मुखी रुद्राक्ष को आप अपने पूजा घर में कई सुरक्षित जगह रख सकते हैं.

Q. तीन मुखी रुद्राक्ष किसके लिए उपयोगिता है?

A. प्रतिक रुद्राक्ष में मनुष्य के जीवन के कुछ ना कुछ  पहलुओं को लाभ पहुंचाने का अच्छी गुण होता है. चाहे वह कैरियर,  परिवार,  प्रेम या स्वस्थ से जुड़ी पहलू क्यों ना हो. तीन मुखी रुद्राक्ष की सतह पर मुख्य तीन प्राकृतिक रेखाएं होती है जो तीन मुखी रुद्राक्ष असली होने का पहचान होती है. इस तरह का रुद्राक्ष नेपाल और इंडोनेशिया में ज्यादातर पाया जाता है. तीन मुखी रुद्राक्ष का सबसे बड़ी लाभ मुख्य रूप से मनुष्य की स्वास्थ्य को बेहतर बनाने का काम करता है.

Q. तीन मुखी रुद्राक्ष की पहचान कैसे करें?

A. तीन मुखी रुद्राक्ष की सतह पर मुख्य तीन प्राकृतिक रेखाएं होती है जो तीन मुखी रुद्राक्ष असली होने का पहचान होती है.

Leave a Comment

Welcome to Clickise.com Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes
error: Alert: Content selection is disabled!!
Send this to a friend