इनफार्मेशन

Bharat Ratna : क्या होता है ‘भारत रत्न’, किसे दिया जाता है पुरस्कार और मिलती हैं क्या सुविधाएं, Big भारत रत्न के बारे में संपूर्ण जानकारी

Pawin

Bharat Ratna
sara Tendulkar biography hindi

Rate this post

( bharat ratna in hindi, bharat ratna malayalam, bharat ratna award list pdf, bharat ratna award in hindi, list of bharat ratna award winners year wise, first bharat ratna award,bharat ratna award benefits,bharat ratna prize money,1st bharat ratna award, bharat ratna award)

भारत रत्न क्या होता है ( What is Bharat Ratna ) 

भारत रत्न (Bharat Ratna) भारत का सब से बड़ी और सर्वोच्च नागरिक सम्मान है. भारत रत्न सम्मान उसे व्यक्ति को दी जाती है जो व्यक्ति  राष्ट्रीय की सेवा के लिए योगदान दिया हो. राष्ट्रीय सेवा योगदान के बारे में बात किया जाए तो विभिन्न क्षेत्र से जैसे की कला, साहित्य, सार्वजनिक सेवाएं, विज्ञान और खेल संबंधी सेवाएं शामिल है. (भारत रत्न की शुरुआत कब हुई) भारत रत्न (Bharat Ratna) सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1945 में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री राजेंद्र प्रसाद द्वारा की गई थी.

भारत रत्न (Bharat Ratna) सम्मान शुरुआत में व्यक्ति की मरणतोप्रांत देने का प्रावधान नहीं था लेकिन यह प्रावधान 1955 में दोबारा जोड़ा गया और उसके बाद 14 व्यक्तियों को भारत रत्न सम्मान मरण उपरांत प्रदान की गई थी. आपको बता दे कि भारत रत्न सम्मान 1 साल में सिर्फ तीन व्यक्ति को ही प्रदान की जाती है. ऊपर दी गई योगदान के रन लिए भारत सरकार द्वारा दिए जाने वाले सम्मान में भारत रत्न के बाद क्रमशःपद्म विभूषण सम्मान, पद्म भूषण सम्मान, और पद्मश्री सम्मान है.

आपको बता दे की खेल जगत में अब तक सिर्फ एक ही खिलाड़ी को भारत रत्न सम्मान प्राप्त हुआ है उनका नाम क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले (sachin tendulkar bharat ratna) सचिन तेंदुलकर को ही खेल जगत में भारत रत्न सम्मान मिला है. और भारत के इतिहास मेंभारत रत्न पाने वाले में सबसे कम उम्र के व्यक्ति भी सचिन तेंदुलकर ही है. 

भारत रत्न (bharat ratna award)

पदक का नामभारत रत्न
प्रकारनागरिक
श्रेणीसम्मान
स्थापना1954
प्रदान करताभारत सरकार 

भारत रत्नस म्मान की इतिहास (Bharat Ratna History )

2 जनवरी 1954 को राष्ट्रपति के सचिव के कार्यालय से एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की जाती है जिसमें दो नागरिक पुरस्कारों के निर्माण की घोषणा की जाती है. जिसमें सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न (Bharat Ratna) और अन्य तीन स्तरीय पुरस्कार की वर्गीकृत किया गया है इसमें पहले वर्ग दूसरा वर्ग और तीसरा वर्ग जो भारत रत्न से नीचे रैंक की पुरस्कार रहता है. 15 जनवरी 1955 कोपद्म विभूषण को तीन अलग-अलग पुरस्कारों में फिर से वर्गकृत किया जाता है.

इन तीनों में से सब से उच्च पुरस्कार पद्म विभूषणऔर उसके बाद पद्म भूषण और पद्मश्री पुरस्कार में वर्गीकृत किया गया.ऐसा कोई औपचारिक प्रावधान नहीं है कि भारत रत्न पाने वालों को भारतीय नागरिक होना चाहिए. क्योंकि 1980 में एक भारतीय नागरिक मदर टेरेसा और दो गैर भारतीयों को 1987 में पाकिस्तान के अब्दुल गफ्फार खान और 1990 में दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला को भारत रत्न से सम्मानित किया गया है.

भारत रत्न (Bharat Ratna) सम्मान के इतिहास में सबसे कम उम्र में भारत रत्नस (Bharat Ratna) म्मान पाने वाले में खेल जगत के सचिन तेंदुलकर जिन्हें 40 साल की उम्र में ही भारत रत्न (Bharat Ratna) से सम्मान किया गया था. सबसे ज्यादा उम्र और जीवित नागरिक में धोंडो केशव कर्वे को 18 अप्रैल 1958 में उनके 100 जन्म दिन पर सम्मानित किया गया था. 2024 तक भारत रत्न पुरस्कार कल 50 लोगों को प्रदान की गई है जिसमें15 लोग को मरण उपरांत देने का घोषणा की गई थी.

पहले भारत रत्न पुरस्कार कब और कि सको मिली ? (first bharat ratna award)

भारत इतिहास में भारत रत्न (Bharat Ratna) पुरस्कार का शुरुआत 1954 से हुई थी और 1954 में कल तीन महान व्यक्ति को भारत रत्न (Bharat Ratna) पुरस्कार सेसम्मान किया गया था. पहले डॉक्टर सर्वपल्ली डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन, चक्रवर्ती राज गोपाला चारी, और डॉक्टर चंद्रशेखर वेंकटरमन को मिला था. 

कैसा होता है भारत रत्न पदक ? Details of Bharat Ratna

भारत रत्न (Bharat Ratna) पदक के बारे में बात किया जाए तो मूल रूप से इस सम्मान के पदक का डिजाइन 35 मिनी गोलाकार स्वर्ण मेडल था. जिसमें सूर्य बना हुआ था और ऊपर में हिंदी में भारत रत्न (Bharat Ratna) लिखा हुआ था और नीचे पुष्पहर था. और पदक के पीछे और राष्ट्रीय चिन्ह और मोटा था. फिर बाद में इस डिजाइन को बदलकर तांबे के पीपल के पत्ते पर प्लैटिनम का चमकता सूर्य बना दिया गया जिसके नीचे चांदी में लिखा रहता है. भारत रत्न (Bharat Ratna) और इस पदक कोसफेद पीट के साथ गले में पहना जाता है.

भारत रत्न सम्मान पदक किस को दी जाती है ?

भारत रत्न ()Bharat Ratna) सम्मान पदक भारत में जन्मे नागरिक को हीभारत रत्न से सम्मानित किया जाता है लेकिन मदर टेरेसा और दो गैर भारतीयों पहले पाकिस्तान के राष्ट्रीय खान अब्दुल गफ्फार खान और दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेशनल मंडेला को प्रदान किया गया है.

भारत रत्न सम्मान पाने वाले व्यक्ति को मिलने वाली सुविधाएं ?

भारत रत्न (Bharat Ratna) पदक का उपयोग उपसर्ग या प्रत्यय के रूप में नहीं किया जा सकता है हालांकि प्राप्त करता खुद को राष्ट्रपति द्वारा भारत रत्न (Bharat Ratna) से सम्मानित या भारत रत्न पुरस्कार प्राप्त करता के रूप में पहचान सकते हैं. भारत रत्न पुरस्कार में कोई आर्थिक लाभ नहीं होता है लेकिन पुरस्कार में निम्न लिखित अधिकार जरूर मिलती है.

  • भारत के राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षरित एक सदन प्रमाण पत्र
  • किसी राज्य के भीतर यात्रा करते समय राज्य सरकारों द्वारा राज्य अतिथि के रूप में सम्मान मिलती है.
  • विदेश में भारतीय मिशन के अनुरोध किए जाने पर भारत रत्न प्राप्त करता को संपूर्ण सुविधा प्रदान की जाती है.
  • भारत रन से सम्मानित व्यक्ति को राजनीय पासपोर्ट का लाभ मिलता है.
  • भारत रत्नसे सम्मानित व्यक्ति को भारतीय वरीयता क्रम में सातवें स्थान की दर्जा मिलती है.
  • भारतीय विमान एयर इंडिया से सफर करने परकम कीमत पर किराया मिलती है. 

आज तक भारत रत्न सम्मान पाने वाले व्यक्तियों की सूची ( bharat ratna list, bharat ratna award list, bharat ratna winners )

YearsNameStateDurationOverviews
1954सी. राजगोपालाचारीतमिलनाडु1878-1972राजगोपालाचारी एक स्वतंत्रता सेनानी थे, जिन्होंने  1948 से 50 तक भारत के अंतिम गवर्नर-जनरल के रूप में कार्य किया ।  इससे पहले, उन्होंने 1947-48 में पश्चिम बंगाल के पहले राज्यपाल के रूप में कार्य किया था  ।  वह  1950 में सरदार वल्लभाई पटेल के बाद पहली नेहरू कैबिनेट  में गृह मंत्री थे । उन्होंने 1937-39 तक मद्रास प्रेसीडेंसी के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया और बाद में  1952 और 1954 के बीच तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया। उन्होंने 1959 में स्वतंत्र पार्टी की स्थापना की ।
1954सर्वपल्ली राधाकृष्णनतमिलनाडु1888-1975राधाकृष्णन ने 1952 से 1962 तक भारत के पहले उपराष्ट्रपति और 1962 से 1967 तक भारत के दूसरे राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया)। 1962 से, उनके जन्मदिन 5 सितंबर को भारत में प्रतिवर्ष शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है।
1954सी वी रमनतमिलनाडु1888-1970रमन एक भौतिक विज्ञानी थे जो प्रकाश प्रकीर्णन के क्षेत्र में अपने काम के लिए जाने जाते थे । उन्हें रमन प्रकीर्णन और रमन स्पेक्ट्रोस्कोपी की खोज के लिए जाना जाता है और उन्हें 1930 में भौतिकी में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया था ।
1955भगवान दासउतार प्रदेश1869-1958भगवान दास एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता, थियोसोफिस्ट और शिक्षाविद् थे। उन्होंने काशी विद्यापीठ की सह-स्थापना की और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए मदन मोहन मालवीय के साथ काम किया ।
1955एम. विश्वेश्वरैयाकर्नाटक1861-1962विश्वेश्वरैया एक सिविल इंजीनियर और राजनेता थे । उन्होंने 1912 से 1918 तक मैसूर के 19वें दीवान के रूप में कार्य किया। उनका जन्मदिन, 15 सितंबर, भारत में प्रतिवर्ष इंजीनियर दिवस के रूप में मनाया जाता है।
1955जवाहर लाल नेहरूउतार प्रदेश1889-1964नेहरू एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ थे, जो 1947 से 1964 तक भारत के पहले और सबसे लंबे समय तक प्रधान मंत्री रहे ।
1957गोविंद बल्लभ पंतउतार प्रदेश1887-1961पंत एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता और राजनेता थे, जिन्होंने संयुक्त प्रांत के प्रधान मंत्री (1937-39, 1946-50) और 1950 से 1954 तक उत्तर प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया । उन्होंने 1955 तक केंद्रीय गृह मंत्री के रूप में कार्य किया। 1961 तक।
1958धोंडो केशव कर्वेमहाराष्ट्र1858-1962कर्वे एक समाज सुधारक और शिक्षक थे, जो महिलाओं की शिक्षा और हिंदू विधवाओं के पुनर्विवाह पर अपने काम के लिए जाने जाते थे। उन्होंने विधवा विवाह संघ (1883), हिंदू विधवा गृह (1896) की स्थापना की, और 1916 में श्रीमती नाथीबाई दामोदर थैकर्सी महिला विश्वविद्यालय की शुरुआत की ।
1961बिधान चंद्र रॉयपश्चिम बंगाल1882-1962रॉय एक चिकित्सक , राजनीतिज्ञ और शिक्षाविद् थे । उन्होंने 1948 से 1962 तक पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया और उन्हें “आधुनिक पश्चिम बंगाल के निर्माता” के रूप में जाना जाता है। 1 जुलाई को उनका जन्मदिन भारत में राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस के रूप में प्रतिवर्ष मनाया जाता है ।
1961पुरूषोत्तम दास टंडनउतार प्रदेश1882-1962टंडन एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ थे, जिन्होंने 1937 से 1950 तक उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।  वह हिंदी को आधिकारिक भाषा का दर्जा दिलाने के अभियान में सक्रिय रूप से शामिल थे ।
1962राजेन्द्र प्रसादबिहार1884-1963प्रसादन एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता, वकील और राजनेता थे, जो बिहार में चंपारण सत्याग्रह और असहयोग आंदोलन में महात्मा गांधी के साथ जुड़े थे ।  भारत की संविधान सभा के अध्यक्ष बने । बाद में उन्हें भारत के पहले राष्ट्रपति (1950-62) के रूप में चुना गया।
1963जाकिर हुसैनआंध्र प्रदेश1897-1969हुसैन एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता और दार्शनिक थे, जिन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति (1948-56) और बिहार के राज्यपाल (1957-62) के रूप में कार्य किया। बाद में, उन्हें भारत के दूसरे उपराष्ट्रपति (1962-67) के रूप में चुना गया और वे भारत के तीसरे राष्ट्रपति (1967-69) बने।
1963पांडुरंग वामन काणेमहाराष्ट्र1880-1972केन एक भारतविद् और संस्कृत विद्वान थे, जो अपने पांच खंडों के साहित्यिक कार्य, धर्मशास्त्र का इतिहास: भारत में प्राचीन और मध्यकालीन धार्मिक और नागरिक कानून के लिए जाने जाते हैं ।
1966लाल बहादुर शास्त्रीउतार प्रदेश1904-1966शास्त्री एक स्वतंत्रता सेनानी थे, जो अपने नारे ” जय जवान जय किसान ” (“सैनिक की जय, किसान की जय”) के लिए जाने जाते थे। उन्होंने भारत के दूसरे प्रधान मंत्री (1964-66) के रूप में कार्य किया और 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान देश का नेतृत्व किया ।
1971इंदिरा गांधीउतार प्रदेश1917-1984इंदिरा गांधी 1966-77 और 1980-84 के दौरान भारत की प्रधान मंत्री थीं। उन्हें “भारत की लौह महिला” के रूप में जाना जाता है, क्योंकि उन्होंने 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध और समवर्ती बांग्लादेश मुक्ति युद्ध के दौरान भारत का नेतृत्व किया था जिसके कारण बांग्लादेश का निर्माण हुआ ।
1975वीवी गिरिओडिशा1894-1980गिरि एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता थे, जिन्होंने ट्रेड यूनियनों का आयोजन किया और स्वतंत्रता की लड़ाई में उनकी भागीदारी को सुविधाजनक बनाया। स्वतंत्रता के बाद, गिरि ने उत्तर प्रदेश , केरल और मैसूर राज्य के राज्यपाल और अन्य कैबिनेट मंत्रालयों का पद संभाला।  वह पहले कार्यवाहक राष्ट्रपति बने और अंततः 1969 से 1974 तक सेवा करते हुए भारत के चौथे राष्ट्रपति के रूप में चुने गए।
1976के. कामराजतमिलनाडु1903-1975कामराज एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ थे, जिन्होंने  1954 और 1963 के बीच नौ वर्षों से अधिक समय तक तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया। उन्हें “किंग मेकर” के रूप में जाना जाता था, क्योंकि वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष थे । नेहरू की मृत्यु के बाद लाल बहादुर शास्त्री को और शास्त्री की मृत्यु के बाद इंदिरा गांधी को प्रधानमंत्री चुनते समय  । बाद में उन्होंने भारतीय राजनीतिक दल, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (संगठन) की स्थापना की ।
1980मदर टेरेसापश्चिम बंगाल ( जन्म स्कोप्जे (उत्तरी मैसेडोनिया )1910-1997मदर टेरेसा एक कैथोलिक नन थीं और मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी की संस्थापक थीं , जो एक धार्मिक मंडली है, जो बीमार लोगों के लिए घरों का प्रबंधन करती है। वह 1979 में अपने मानवीय कार्यों के लिए नोबेल शांति पुरस्कार की प्राप्तकर्ता थीं।  उन्हें 19 अक्टूबर 2003 को पोप जॉन पॉल द्वितीय द्वारा धन्य घोषित किया गया था और 4 सितंबर 2016 को पोप फ्रांसिस द्वारा संत घोषित किया गया था ।
1983विनोबा भावेमहाराष्ट्र1895-1982भावे एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता, समाज सुधारक और महात्मा गांधी के सहयोगी थे, जो अपने भूदान आंदोलन के लिए जाने जाते थे । उन्हें सम्मानजनक उपाधि “आचार्य” (“शिक्षक”) से जाना जाता था और उनके मानवीय कार्यों के लिए उन्हें रेमन मैग्सेसे पुरस्कार (1958) से सम्मानित किया गया था।
1987अब्दुल गफ्फार खानपाकिस्तान1890-1988खान एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता, महात्मा गांधी के अनुयायी और उपमहाद्वीप में हिंदू-मुस्लिम एकता के समर्थक थे ।  उन्हें “फ्रंटियर गांधी” के नाम से जाना जाता था और वह 1920 में खिलाफत आंदोलन का हिस्सा थे और 1929 में खुदाई खिदमतगार (“लाल शर्ट आंदोलन”) की स्थापना की थी ।
1988एमजी रामचन्द्रनतमिलनाडु1917-1987रामचंद्रन एक अभिनेता और राजनेता थे, जो भारतीय राजनीतिक दल, ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम के संस्थापक थे और 1977 और 1987 के बीच दस वर्षों से अधिक समय तक तमिलनाडु के मुख्यमंत्री रहे। उन्हें किस नाम से जाना जाता है? “पुरैची थलाइवर” (“क्रांतिकारी नेता”) का उपनाम।
1990बीआर अंबेडकरमहाराष्ट्र1891-1956अम्बेडकर एक समाज सुधारक, वकील और दलित नेता थे, जिन्होंने भारतीय संविधान का मसौदा तैयार करने वाली समिति का नेतृत्व किया और बाद में भारत के पहले कानून मंत्री भी रहे।  अंबेडकर ने भारत में दलितों के सामाजिक भेदभाव और जाति व्यवस्था के खिलाफ अभियान चलाया । 14 अक्टूबर 1956 को बौद्ध धर्म अपनाने के बाद वह दलित बौद्ध आंदोलन से जुड़े थे।
1990नेल्सन मंडेलादक्षिण अफ्रीका1918-2013मंडेला दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद विरोधी आंदोलन के नेता थे और बाद में दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति (1994-99) के रूप में कार्य किया। अक्सर “दक्षिण अफ्रीका के गांधी” कहे जाने वाले मंडेला का अफ्रीकी राष्ट्रीय कांग्रेस आंदोलन गांधीवादी दर्शन से प्रभावित था । 1993 में उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया ।
1991राजीव गांधीउतार प्रदेश1944-1991राजीव गांधी एक पायलट थे ] फिर राजनेता बने, जिन्होंने 1984 से 1989 तक भारत के छठे प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया।
1991वल्लभभाई पटेलगुजरात1875-1950पटेल एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता थे, जिन्होंने भारत के पहले उप प्रधान मंत्री (1947-50) और गृह मंत्री के रूप में कार्य किया।  पटेल को “भारत का लौह पुरुष” और “सरदार” (“नेता”) पटेल की उपाधि से जाना जाता था और उन्होंने रियासतों को भारतीय संघ में शामिल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।
1991मोरारजी देसाईगुजरात1896-1995देसाई एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ थे, जिन्होंने 1977 से 1979 तक भारत के चौथे प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया और वह पहले ऐसे व्यक्ति थे जो भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से नहीं थे।  उन्हें पाकिस्तान सरकार द्वारा दिया जाने वाला दूसरा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार निशान-ए-पाकिस्तान से भी सम्मानित किया गया था । जब वे प्रधानमंत्री के पद पर थे तब देसाई ने पहले पुरस्कारों को “बेकार और राजनीतिकरण” के कारण समाप्त कर दिया था।
1992अबुल कलाम आज़ाद [ई]पश्चिम बंगाल1888-1958आज़ाद एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ थे, जिन्होंने भारत के पहले शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया। 11 नवंबर को उनका जन्मदिन भारत में राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में प्रतिवर्ष मनाया जाता है।
1992जेआरडी टाटामहाराष्ट्र1904-1993टाटा एक उद्योगपति, परोपकारी और विमानन अग्रणी थे, जिन्होंने व्यापार समूह टाटा समूह के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया । वह विभिन्न शैक्षणिक और अनुसंधान संस्थानों और व्यवसायों के संस्थापक हैं।
1992सत्यजीत रेपश्चिम बंगाल1922-1992रे एक फ़िल्म निर्देशक थे । उन्होंने 1955 में अपनी पहली फिल्म पाथेर पांचाली का निर्देशन किया और उन्हें भारतीय सिनेमा को विश्व स्तर पर पहचान दिलाने का श्रेय दिया जाता है । 1984 में, रे को सिनेमा में भारत के सर्वोच्च पुरस्कार दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया और 1991 में, उन्हें अकादमी मानद पुरस्कार मिला ।
1997गुलजारीलाल नंदापंजाब1898-1998नंदा एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ थे, जिन्होंने 1964 और 1966 में भारत के अंतरिम प्रधान मंत्री और योजना आयोग के उपाध्यक्ष के रूप में कार्य किया ।
1997अरुणा आसफ अलीपश्चिम बंगाल1909-1996अली एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता थे, जिन्हें 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान बॉम्बे में तिरंगा झंडा फहराने के लिए जाना जाता था। स्वतंत्रता के बाद, अली को 1958 में दिल्ली के पहले मेयर के रूप में चुना गया था।
1997ए पी जे अब्दुल कलामतमिलनाडु1931-2015कलाम एक एयरोस्पेस और रक्षा वैज्ञानिक थे, जिन्होंने बाद में 2002 से 2007 तक भारत के ग्यारहवें राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया।  वह भारत के पहले उपग्रह प्रक्षेपण यान एसएलवी III और एकीकृत निर्देशित मिसाइल विकास कार्यक्रम के विकास में शामिल थे। विभिन्न अंतरिक्ष और रक्षा अनुसंधान एजेंसियों और रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार, रक्षा अनुसंधान सचिव और रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन के निदेशक के रूप में कार्य किया है ।
1998एमएस सुब्बुलक्ष्मीतमिलनाडु1916-2005सुब्बुलक्ष्मी एक कर्नाटक शास्त्रीय गायिका थीं , जो अपने गीतों, धार्मिक मंत्रोच्चार और रचनाओं के लिए जानी जाती थीं। वह अपनी सार्वजनिक सेवा के लिए रेमन मैग्सेसे पुरस्कार पाने वाली पहली भारतीय संगीतकार थीं ।
1998सी. सुब्रमण्यमतमिलनाडु1910-2000सुब्रमण्यम एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ थे, जिन्होंने 1964 से 1966 तक कृषि मंत्री और बाद में वित्त और रक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया। उन्हें भारत में हरित क्रांति में उनके योगदान के लिए जाना जाता है ।
1999जय प्रकाश नारायणबिहार1902-1979नारायण एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता और समाज सुधारक थे। उन्हें आमतौर पर “लोकनायक” (“पीपुल्स लीडर”) कहा जाता था और उन्हें 1970 के दशक के मध्य में भारत की तत्कालीन सरकार के खिलाफ शुरू किए गए संपूर्ण क्रांति आंदोलन के लिए जाना जाता है।
1999अमर्त्य सेनपश्चिम बंगाल1933-सेन एक अर्थशास्त्री हैं और वह 1998 में आर्थिक विज्ञान में नोबेल मेमोरियल पुरस्कार के विजेता हैं ।
1999गोपीनाथ बोरदोलोईअसम1890-1950बोरदोलोई एक स्वतंत्रता कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ थे, जिन्होंने असम के पहले मुख्यमंत्री (1946-50) के रूप में कार्य किया।  उन्होंने असम को भारत के साथ एकजुट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी जब इसके कुछ हिस्से पाकिस्तान में शामिल होना चाहते थे ।
1999रविशंकरउतार प्रदेश1920-2012रविशंकर एक संगीतकार और सितार वादक थे। उन्होंने चार ग्रैमी पुरस्कार जीते हैं और उन्हें अक्सर “हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत का दुनिया का सबसे प्रसिद्ध प्रतिपादक” माना जाता है।
2001लता मंगेशकरमहाराष्ट्र1929-2022मंगेशकर एक पार्श्व गायिका थीं, जिन्हें “भारत की कोकिला” के नाम से जाना जाता था। उन्होंने अपना करियर 1940 के दशक में शुरू किया और 36 से अधिक भाषाओं में गाने गाए हैं। 1989 में, मंगेशकर को सिनेमा में भारत के सर्वोच्च पुरस्कार दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
2001बिस्मिल्लाह खानबिहार1916-2006खान एक हिंदुस्तानी शास्त्रीय शहनाई वादक थे, जिन्होंने आठ दशकों से अधिक समय तक वाद्ययंत्र बजाया और उन्हें इस वाद्ययंत्र को भारतीय संगीत के केंद्र स्तर पर लाने का श्रेय दिया जाता है।
2009भीमसेन जोशीकर्नाटक1922-2011जोशी एक हिंदुस्तानी शास्त्रीय गायक थे, जो किराना घराने के अनुयायी थे और गायन की ख्याल शैली के लिए व्यापक रूप से जाने जाते हैं।
2014सीएनआर रावकर्नाटक1934-राव एक रसायनज्ञ और ठोस अवस्था रसायन विज्ञान में विशेषज्ञता वाले वैज्ञानिक हैं । उनके पास 86 विश्वविद्यालयों से मानद डॉक्टरेट की उपाधि है और उन्होंने लगभग 1,800 शोध प्रकाशन और 56 पुस्तकें लिखी हैं।
2014सचिन तेंडुलकरमहाराष्ट्र1973-तेंदुलकर एक क्रिकेटर हैं , जिन्हें सर्वकालिक महान बल्लेबाजों में से एक माना जाता है।  1989 में पदार्पण करने के बाद, तेंदुलकर ने 664 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट मैच खेले, दो दशकों से अधिक लंबे करियर में 34,000 से अधिक स्कोर बनाए और विभिन्न क्रिकेट रिकॉर्ड बनाए।
2015अटल बिहारी वाजपेयीमध्य प्रदेश1924-2018वाजपेयी एक राजनेता थे, जिन्होंने 1996, 1998 और 1999 से 2004 तक तीन बार भारत के प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया।  वह चार दशकों से अधिक समय तक सांसद रहे और नौ बार लोकसभा के लिए , दो बार राज्यसभा के लिए चुने गए। सभा , 1977-79 के दौरान विदेश मंत्री के रूप में भी कार्यरत थे ।
2015मदन मोहन मालवीयउतार प्रदेश1861-1946मालवीय एक विद्वान और शैक्षिक सुधारक थे, जिन्होंने 1919 से 1938 तक विश्वविद्यालय के कुलपति के रूप में कार्य करते हुए अखिल भारतीय हिंदू महासभा (1906) और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना की ।  वह चार कार्यकाल तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष रहे। और 1924 से 1946 तक हिंदुस्तान टाइम्स के अध्यक्ष रहे।
2019प्रणब मुखर्जीपश्चिम बंगाल1935-2020मुखर्जी एक राजनेता थे, जिन्होंने 2012 से 2017 तक भारत के 13वें राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया ।  अपने पांच दशकों के करियर में, मुखर्जी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता रहे थे और उन्होंने भारत सरकार में कई मंत्री पद संभाले थे। राष्ट्रपति के रूप में चुने जाने से पहले , वह 2009 से 2012 तक वित्त मंत्री थे।
2019भूपेन हजारिकाअसम1926-2011हजारिका एक पार्श्व गायक, गीतकार, संगीतकार, कवि और फिल्म निर्माता थे, जिन्हें व्यापक रूप से सुधाकांत के नाम से जाना जाता था ।  उनके गीत, जो मुख्य रूप से असमिया भाषा में लिखे और गाए गए हैं , सार्वभौमिक न्याय और शांति पर आधारित हैं और कई भाषाओं में अनुवादित और गाए गए हैं।
 2019नानाजी देशमुखमहाराष्ट्र1916-2010देशमुख एक सामाजिक कार्यकर्ता और राजनीतिज्ञ थे, जिन्होंने शिक्षा, स्वास्थ्य और ग्रामीण आत्मनिर्भरता के क्षेत्र में काम किया। वह भारतीय जनसंघ के नेता थे और राज्यसभा के सदस्य भी रहे ।
2024कर्पूरी ठाकुरबिहार1924-1988ठाकुर एक राजनेता थे, जिन्होंने 1970 से 1971 और 1977 से 1979 तक दो बार बिहार के 11वें मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया। 1978 में, उन्होंने राज्य सरकार की नौकरियों में आरक्षण नीति पेश की।
2024लालकृष्ण आडवाणीदिल्ली ( ब. कराची , पाकिस्तान )1927-2024आडवाणी एक राजनेता हैं जिन्होंने 2002 से 2004 तक भारत के 7वें उप प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया ।  वह भारतीय जनता पार्टी के सह-संस्थापकों में से एक हैं और लोकसभा में सबसे लंबे समय तक विपक्ष के नेता रहे। .
     

Read Also

FAQs

Q. भारत में कितने लोगों को भारत रत्न से सम्मानित किया गया है?

A. 50

Q. भारत रत्न प्राप्त करने वाला प्रथम व्यक्ति कौन था?

A. डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन 

Q. भारत रत्न प्राप्त करने वाली प्रथम भारतीय महिला कौन थी?

A. इंदिरा गांधी

Q. पहला भारत रत्न कब मिला?

A. 1954

Leave a Comment

Welcome to Clickise.com Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes
error: Alert: Content selection is disabled!!
Send this to a friend