जीवन परिचयराजनीतिक

Champai Soren Biography in Hindi : जाने कौन है चम्पई सोरेन, जो बने झारखण्ड के 7वा मुख्यमंत्री, चम्पई सोरेन की जीवन परिचय, राजनितिक जीवन,पत्नी बच्चे परिवार इत्यादि

Pawin

Champai Soren Biography in Hindi
sara Tendulkar biography hindi

Rate this post

Champai Soren Biography in Hindi, जाने कौन है चम्पई सोरेन, जो बने झारखण्ड के 7वा मुख्यमंत्री, चम्पई सोरेन की जीवन परिचय, राजनितिक जीवन,पत्नी बच्चे परिवार, CM Champai Soren, Champai Soren News, age, Wife, Networth, dr champai soren, champai soren son,

चंपई सोरेन एक भारतीय राजनेता है और झारखंड के वर्तमान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को ED द्वारा गिरफ्तार करने के बाद फरवरी 2024 से झारखंड के सातवें मुख्यमंत्री के रूप में चुने गए. चंपई सोरेन इससे पहले हेमंत सोरेन के मंत्रिमंडल में परिवहन अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग कल्याण कैबिनेट मंत्री के रूप में काम करते थे. और चंपई सोरेन झारखंड मुक्ति मोर्चा पार्टी के सदस्य है. तो आईए जानते हैं चंपई सोरेन के जीवन परिचय (Champai Soren Biography in Hindi) के बारे में विस्तार में 

चंपई सोरेन के जीवन परिचय (Champai Soren Biography in Hindi )

नाम चंपई सोरेन (Champai Soren )
जन्म1 नवंबर 1956
उम्र67 वर्ष
पिताजी का नामसिमल सोरेन
पद झारखंड के सातवां मुख्यमंत्री
इससेपहलेहेमंत सोरेन कैबिनेट में अनुसूचित जनजाति अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण तथा परिवहन मंत्री 
जन्म स्थानसरायकेला झारखंड भारत
राजनीतिक दलझारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) 

चंपई सोरेन कौन है ? ( Champai Soren Kon Hai )

चंपई सोरेन झारखंड के मुख्य मंत्री हेमंत सोरेन के इस्तीफा और उनके गिरफ्तारी के बाद फरवरी 2024 से झारखंड के साथ में मुख्यमंत्री के रूप में चुने गए राजनेता है और चंपई सोरेन इससे पहले हेमंत सोरेन कैबिनेट के खाद एवं नागरिक आपूर्ति तथा परिवहन मंत्री थे. 

चंपई सोरेन की प्रारंभिक जीवन (Champai SOren Early life )

चंपई सोरेन के जन्म 1 नवंबर 1956 को झारखंड राज्य  के सरायकेला खरसावां जिले जिलिंगगोड़ा गांव निवासी आदिवासी परिवार में हुई थी. चंपई सोरेन के पिताजी का नाम सिमल सोरेन है. और चंपई सोरेन कल चार भाई में सबसे बड़े चंपई सोरेन है. चंपई सोरेन के पिताजी एक किसान होने के कारण खेती किसानी किया करते थे. और चंपई सोरेन शुरू से ही अपने पिताजी का हाथ खेती किसानी में बटाया करते थे. चंपई सोरेन ने अपने ही गांव के स्कूल से दसवीं तक का पढ़ाई की है और उनका विवाह छोटी उम्र में ही मनको से कर दिया गया था. शादी के बाद चंपई सोरेन के 4 बेटे और तीन बेटियां हुई. 

चंपई सोरेन की शिक्षा (Champai Soren Qualification )

चंपई सोरेन नेअपने प्रारंभिक शिक्षा गांव के एक स्थानीय स्कूल से दसवीं तक की पढ़ाई की है..

चंपई सोरेन के परिवार  (champai soren wife) (Champai Soren Family )

चंपई सोरेन की विवाह छोटी उम्र में ही मन को से कर दिया गया था और शादी के बाद उन के चार बेटे और तीन बेटियां है.

चंपई सोरेन के राजनीतिक कैरियर (Champai Soren Political Career )

चंपई सोरेन को झारखंड टाइगर के नाम से भी जाना जाता है. चंपई सोरेन को हेमंत सोरेन के पिता और राज्यसभा सांसद शिबू सुरेन का हनुमान भी कहा जाता है. चंपई सोरेन ने शिबू सोरेन के साथ मिलकर झारखंड में आंदोलन किया करते थे. इसके बाद चंपई सोरेन ने अपनी सरायकेला सीट से उपचुनाव में निर्दलीय विधायक बनकर अपने राजनीतिक कैरियर काशुरूआत किया. और फिर बाद में चंपई सोरेन झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM ) पार्टी में शामिल हो गए.

आपको बताते झारखंड सरायकेला से चंपई सोरेन ने 6 बार विधानसभा का चुनाव जीता है. उन्होंने 1991 से 2019 के बीच में केवल एक बार ही 2000 में सरायकेला विधानसभा का चुनाव हर था. उसके बाद फिर चंपई सोरेन ने 2005 के बादल गातार सरायकेला से विधानसभा चुनाव जीता है. जब हेमंत सोरेन झारखंड के मुख्यमंत्री बने थे तब चंपई सोरेन को खाद आपूर्ति और साइंस एंड टेक्नोलॉजी मंत्री के लिए नियुक्ति किया गया था. 

चंपई सोरेन भाजपा सरकार में रह चुके हैं मंत्री (Champai Soren in BJP )

आपको बता दे की भाजपा नेता अर्जुन मुंडा की सरकार में मंत्री के रूप में भी सेवा प्रदान की है. उन्होंने अहम मंत्रालयों का दायित्व संभाला और 11 सितंबर 2010 से 18 जनवरी 2013 तक मंत्री के रूप में अपना सेवा प्रदान की. उसके बाद झारखंड में राष्ट्रपति शासन लागू हो गई. और फिर हेमंत सोरेन की अगुवाई में बनी झारखंड की मुक्ति मोर्चा की सरकार में चंपई सोरेन को खाद एवं नागरिक आपूर्ति तथा परिवहन मंत्री बनाया गया.

चंपई सोरेन के राजनीतिक कैरियर संक्षिप्त में

  • चंपई सोरेन ने अपना पहला चुनाव 1991 में निर्दलीय प्रत्याशी के तौर जीत हासिल की थी.
  • चंपई सोरेन ने 1995 में झामुमो पार्टी के टिकट पर जीत हासिल की थी.
  • चंपई सोरेन 2005 से लगातार सरायकेला से विधायक रहे हैं.
  • चंपई सोरेन 11 सितंबर 2010 से 18 जनवरी 2013 तक भाजपा सरकार के कैबिनेट मंत्री बने.
  • 13 जुलाई 2013 से 28 सितंबर 2014 तक हेमंत सोरेन के कैबिनेट में खाद्य आपूर्ति और परिवहन विभाग के मंत्री बने.
  • हेमंत सोरेन 2019 में परिवहन एससी-एसटी और पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री रहे.
  • चंपई सोरेन ने जब बिहार झारखंड बंटवारे में शिबू सोरेन के साथ महत्वपूर्ण भूमिका निभाईतो चंपई सोरेन झारखंड आंदोलन के वक्त से ही शिबू सोरेन से जुड़े रहे और उनकी गिनती न केवल सूरन परिवार के विश्वस्त नेता के रूप में होती है बल्कि चंपई सोरेन पूरी तरह समर्पित कार्यकर्ता को भी जाने जाते हैं.
  • चंपई सोरेन वर्तमान में फरवरी 2024 से झारखंड के साथ मेंमुख्यमंत्री है.

चंपई सोरेन के साथ हेमंत सोरेन का संबंध ( Champai Soren Relation with Hemant Soren )

का चंपई सोरेन के साथ हेमंत सोरेन का क्या संबंध है इसके बारे में बात किया जाए तो झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता चंपई सोरेन हेमंत सोरेन के वफादार माने जाते हैं. और झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री शिबू सोरेन के पिता के करीबी माने जाते हैं.

सारांश 

इस लेख में हमने जाना Champai Soren Biography in Hindi : जाने कौन है चम्पई सोरेन, जो बने झारखण्ड के 7वा मुख्यमंत्री, चम्पई सोरेन की जीवन परिचय, राजनितिक जीवन,पत्नी बच्चे परिवार इत्यादि के बारे में आशा करता हूं आप लोगों को यह लेख जरूर पसंद आई हो यदि किसी तरह का कोई सुझाव या सलाह हेतु हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट जरुर करें धन्यवाद.

यहभी पढ़े 

FAQs.

Q. झारखंड का सीएम अभी कौन है?

A. झारखण्ड के 7 वा मुख्यमंत्री चम्पई सोरेन

Q. झारखंड के पहले सीएम कौन थे?

A. बाबूलाल मरांडी

Q. झारखंड में जिलों की संख्या कितनी है?

A. 24

Q. झारखंड में कितने गांव हैं?

A. 32,620

Leave a Comment

Welcome to Clickise.com Would you like to receive notifications on latest updates? No Yes
error: Alert: Content selection is disabled!!
Send this to a friend